विश्वास – मेरी शायरी बस तेरे लिए

और कुछ भी नहीं मेरे पास बस विश्वास और प्रार्थना के सिवा जिन्दगी की हर जंग को जीता है मैनें बस अपने इन दो हथियारों से स्वरचित : सर्वजीत …

हो सके न तुम न हम तुम्हारे हुए ।

मेरे मरनेपर भी क्या नजारे होंगे कोई गम तो तो किसी ने आंसू नकली सावरे होंगे किसी की बातों के फव्वारे होंगे थोड़े सामने तो कई किनारे होंगे, हो …

शक्ति छंद (फकीरी)

(शक्ति छंद) फकीरी हमारे हृदय में खिली। बड़ी मस्त मौला तबीयत मिली।। कहाँ हम पड़ें और किस हाल में। किसे फ़िक्र हम मुक्त हर चाल में।। वृषभ से रहें …

मंजर – डी के निवातिया

मंजर *** महामारी का ऐसा खंजर न देखा था हमने कभी इंसानी दिल इतना बंजर न देखा था हमने कभी, धरती रो रही है देखकर आज आसमान रो रहा …

निशानियां – डी के निवातिया

निशानियां *** वक़्त बता रहा है तुझको तेरी खामियां, पहचान ले अब तो अपनी नाकामिया, अब नहीं समझा तो क्या तब समझेगा, जब मिट जायेंगी तेरी सभी निशानियां !! …

नाम कर देंगे – डी के निवातिया

नाम कर देंगे *** याद रखेगा जमाना ऐसा काम कर देंगे ये जिन्दगी अपनी तुम्हारे नाम कर देंगे हम जियेंगे और मरेंगे बस इक तेरे लिए ऐलान इस बात …

चलेगा दिल ये जहाँ तक जमाना चलेगा ।

तू जियेगा जहाँ तक जमाना होगा, फिर से कोई अफसाना होगा, मिलने का नया बहाना होगा, फिर से कोई दीवाना होगा। इन्ही गलियों मे फिरेगा, डुपट्टा किसी का तुझ …

शयरी

देख कर ख्वाब भी हम औरों की तरह मुस्कुराते रहे, दिन भर सोते और रात भर जागते रहे, क्या पता था की भरी चांदनी से दोपहर भी होती है …