Category: सीमा वर्मा ‘अपराजिता’

दर्द की किताब (16.12.2017)

खुशियों से नाराज है मेरी जिंदगी, जिंदगी की मोहताज है मेरी जिंदगी,लोगों को दिखाने के लिए हँसती हूँ मगर,दर्द की किताब है मेरी जिंदगी ॥ सीमा वर्मा”अपराजिता” Оформить и …

अपराजिता (06.01.2018)

हो रही है पराजित ये अपराजिता,जल रही है इसके अरमानो की चिता,हर दर्द जीतने को बेताब हो रहा है,हर सपना जैसे ख्वाब हो रहा है, मुस्कान होठों से दूर …

दर्द और मुस्कान (08.11.2017)

देखते हैं ये दर्द मुझे कितना रुलाएगा, खुद हारेगा या मुझे हराएगा, आज फिर मेरी मुस्कुराहट और दर्द के बीच जंग जारी है , कभी दर्द मुस्कुराहट पर तो …

प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,,

लगाकर गले से मुझको सनम प्यार के सारे तुम एहसास दे देना गा उठें मेरे दिल की धड़कनें सभीसाँसों को मेरी तुम साज़ दे देना लगाकर गले से मुझको …

वादा है ये फिर मोहब्बत न होगी ,,,,,,,

तेरी ख़्वाहिशों से जुदा मेरी हसरत न होगी ,वादा है ये फिर मोहब्बत न होगी ,सजायेगा तू जिस तरह से मुझे कभी उससे अलग मेरी रंगत न होगी ,वादा …

माँ भारती के धानी परिधान के लिए,,,,,,,,

भारत की आन ,बान, शान के लिए इसकी स्वतंत्र पहचान के लिए शूली पे चढ़ गए वीर कितनेमाँ भारती के धानी परिधान के लिएमाँ भारती के धानी परिधान के …

उन्हें हम प्यार करते हैं,,,,,

झुकी हुई नज़रों से ये इज़हार करते हैंखुद से ज्यादा उन्हें हम प्यार करते हैंसुर्ख़ लबों पर कितने गुलाब खिल उठेंचूमकर पेशानी जब वो इक़रार करते हैं,झुकी हुई नज़रों …

ख़ामोश लबों से वो बस ये दुआ करते हैं,,,,

ख़ामोश लबों से वो बस ये दुआ करते हैं ,रहूँ सलामत मैं ,रब से ये इल्तिज़ा करते हैं,दर्द देती हैं उन्हें खामोशियाँ मेरी ,हर आह को मेरी वो सुना …

आवाज़ सिसकियों की दबी -दबी सी है,,,,,

आवाज़ सिसकियों की दबी -दबी सी है ,हर वक़्त आँखों में अब नमी सी है ,वक़्त अब तन्हां गुजरने लगा हैहर लम्हें में तेरी ही कमी – सी है …

काली -स्याह सर्द रातों में ,,,,

काली – स्याह सर्द रातों में तन्हाई में लिपटी तेरी यादों सेगुमसुम -सी खामोश खड़ी मैं बातें करती तेरी बातों सेकाली -स्याह सर्द रातों में ,,,,,,,,,बूँद -बूँद है नीर …

मैं एक दीपक बन जाऊँगी,,,,,,,,,

अपने कलुषित अंतरतम मेंउज्ज्वल ज्योति जलाऊँगीज्ञान की ओजस किरणों सेमन का अंधकार मिटाऊँगीइस बार दीवाली पर खुद ही मैं एक दीपक बन जाऊँगी,,,,,,,,अम्बर से लेकर अवनि तक चहुँ दिशि …

छुपा लिए हैं दिल के राज़ सभी,,,,,

पलकों की चिलमन तले छुपा लिए हैं दिल के राज़ सभीग़म हो या ख़ुशी के पल हों मिलेअब ज़ाहिर होते हैं नहीं कभी पलकों की चिलमन ,,,,,,किसे बताऊँ ,किसे …

देखा ना चलती नाव को ,,,,,,

पैरों की थिरकन सबने देखीदेखा न रिसते घाव को लहरें देखी सागर की सबने देखा न चलती नाव को ,,,फलों के अपने बोझ से हीझुक गई है उस वृक्ष …

हमारी हर बात याद रहेगी,,,

हम याद रहें न रहें हमारी हर बात याद रहेगी यक़ीन मानो हमारा ,अपनी हर मुलाक़ात याद रहेगी ,जब करके दुनिया को नज़रंदाज़ मिलने पहुँची थी तुमसे करके श्रृंगार,वो …

अपराजिता,,

हूँ आज मैं यह सोंचती यह है मेरा प्रतिकार शायदक्यूँ तू लज्जित आज खुद परहै तुम पर मेरा अधिकार शायदहै आज क्यों यह हृदय विकलक्यूँ अश्रुपूर्ण है नेत्र सज़लक्यूँ …

बारिश

बारिश का ये मौसम साजन तेरी याद दिलाता है प्यार से तेरे भीगा तन – मन,तुझको पास बुलाता है,,,बारिश की इन बूँदों में तस्वीर तेरी अब दिखती है ,,महसूस …

करो प्रेम का तुम इक़रार,,,,,

मेरे साजन तुझ भी बिन देखो कैसे मैं कुम्हलाई हूँरंग नहीं है मुझपर कोई बस काली एक परछाईं हूँआकर मेरा रूप निखारोकरो प्रेम से तुम श्रृंगार बाहों में भरकर …

अन्तर्मन

छुपी असंख्य तहों के भीतर ,मन की दुनिया अंतरंग मे ,देख नहीं पता तू उसको ,भटक रहा क्यो बहिरंग में ,ध्वनि आत्मा की क्षीण सही ,पर सच्ची बात बताती …

संकल्प

बेशक मेरी हार हुई है मंज़िल की इन राहों में फिर भी मैं जीतूंगी एक दिन है विश्वास निगाहों में …हर असफलता मुझे सफलता से दूरकिन्तु मंज़िल के एक …

जैसे हो सावन की प्रथम फुहार,,,

तेरे नैनो से छलक रही है तेरे प्रेम की रस -धार तन – मन मेरा भीग रहा हैजैसे हो सावन की प्रथम फुहार,,,खुद को मैं भी जान रही हूँ …

तुम्हारे ही ख्यालों में खोई हुई थी,,,,

ये कुहासे की चादर में लिपटी हुई धराऔर बादलों से घिरा हुआ अम्बर,ठण्ड में काँपता सारा जहांसूरज की एक किरण का इंतजार करता,इन सब बातों से बेअसर ,बेखबर होकेमैं …

न जाने क्यों मेरे साजन तुम याद बहुत अब आते हो ,,,,,,,

न जाने क्यों मेरे साजन तुम याद बहुत अब आते हो बंद करूँ मैं आँखें तब भी तुम मुझको दिख जाते हो ,न जाने क्यों,,,,,,,धड़कन में मेरी गूँज रही …

इंतज़ार तेरा,,,,

वो खामोश सी आहट तेरे क़दमों की ,उम्मीदों की देहरी पर जाने कितने चिरागों को रोशन करती है ,शाम का सूरज ढलते -ढलते उम्मीदों की किवाड़ के सांकल को …

नूतन वर्ष

नूतन किरणें ,नूतन प्रभात ,है नूतन यह वर्ष ,नूतन ऊर्जा,नूतन खुशियाँ ,है दिलों में नूतन हर्ष ,,,,,,बीत रहा जो साल है वो यादें बन जायेगा ,आने वाला कल नई …

चाशनी सी गज़ल,,,,,

नग़मे कई प्यार के मैंने तुझे हैं सुनाये सनमतू भी कभी सुना दे मुझे प्यार की एक कोई चाशनी सी ग़ज़लनग़मे कई ,,,,,मेरी कल्पनाओं में रंग तुझसे हैंमेरी भावनाओं …