Category: इब्ने इंशा

अपने हमराह जो आते हो इधर से पहले

अपने हमराह जो आते हो इधर से पहले| दश्त पड़ता है मियां इश्क़ में घर से पहले| चल दिये उठके सू-ए-शहर-ए-वफ़ा कू-ए-हबीब, पूछ लेना था किसी ख़ाक बसर से …

अच्छा जो ख़फ़ा हम से हो तुम ऐ सनम अच्छा

अच्छा जो ख़फ़ा हम से हो तुम ऐ सनम अच्छा, लो हम भी न बोलेंगे ख़ुदा की क़सम अच्छा| मश्ग़ूल क्या चाहिए इस दिल को किसी तौर, ले लेंगे …