Category: सुभाष सिंह

दौलत का करिश्मा

वाह री दौलततेरा करिश्मा भीकैसा करिश्मा  है ?की जिसका अभावहज़ारों कीमतीजिंदगियोंको लील गया !और जिसकाबेहिसाब अम्बार भीकुछ तथाकथितवी आई पीजिंदगियों कोबचा न सका  ! Оформить и получить экспресс займ …

अकड़

जब तक जिस्म में जान रहीतब तक अकड़ आँखों की पहचान रहीऔर जिस्म से जान निकलते हीयह आँखों से तो जाती रहीमगर खुद जिस्म की ही पहचान हो गयी …

रोशनी की तलाश

रोशनी की अगरतुम्हे तलाश हैतो बाहर मत देखोबाहर तो सिर्फ़ अंधेराऔर सिर्फ़ अंधेरा हैढूँढते रह जाओगेऔर अंधेरो मे गहरेकहीं खो जाओगेतुम्हारे चारों तरफ़फैला अंधकारतुम्हे डरा देगारोशनी चाहिए तोअपने अंदर …