Category: प्रिंस सेठ

कुछ लिखकर, कुछ मिटा दिया करता हूँ…

कुछ लिखकर, कुछ मिटा दिया करता हूँबिना वजह, कलम चला दिया करता हूँ लिख जाती है अक्सर,दिल में दबी बाते सारी जो खुद में रख खुदी भुला दिया करता …

चलो माना कि मैं तेरे प्यार का हकदार नही…

चलो माना कि मैं तेरे प्यार का हकदार नही बस तू ये मत कह कि तुझको, मुझसे प्यार नहीवर्ना दुनिया ड़ूब जाएगी मेरी आँखो के पानी से खुद को …

क्यो सोचू मैं कल के बारे में…

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по …

तेरे शहर का असर, कुछ इस कदर छाया है…

तेरे शहर का असर, कुछ इस कदर छाया हैज़हा भी देखा, सिर्फ तेरा शहर ही नजर आया है!याद है वो पल जब हम होली खेलने तेरे घर आयेेरंगे गये …

जी रहा हू ज़िन्दगी उम्मीदो के सहारे…

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по …

ये वक्त की माया है जो हर तरफ अंधेरा छाया है…

ये वक्त की माया है जो हर तरफ अंधेरा छाया है हर बुरे वक्त के बाद, अच्छा वक्त भी तो आया है ईश्वर ने क्या सिस्टम बनाया है सब …

जो खुद ना समझा,वो दुनिया को समझाना चाह रहा हू मैं…

जो खुद ना समझा,वो दुनिया को समझाना चाह रहा हू मैं असफल रहा, फिरभी सफलता के बारे में बता रहा हू मैं मंजिल क्यो दूर रही, हर बार, बस …

हे प्रभु! आपकी माया ना अब तक कोई समझ पाया…

हे प्रभु! आपकी माया ना अब तक कोई समझ पाया जिस इन्सानो को आपने है बनाया, उन्होने ही अाज,आपको बचाने का संकल्प है उठाया ना जाने इस भ्रम मे …

नहीं चाहिये मन्दिर-मस्जिद, ना गीता, ना कुरान हमे…

नहीं चाहिये मन्दिर-मस्जिद ना गीता, ना कुरान हमे नहीं चाहिये धन व दौलत ना इंसानियत की जान हमे !! ना आतंक हो,ना डर का साया कुछ ऐसा चाहिये, इन्तेजाम …