Category: नवनीत शर्मा

चिड़ियाँ -2

अच्‍छा लगता है उनका चहकना सुनते हैं देखते हैं उड़ान भर शाख पर लौटती चिडि़यों को अब भी घुड़कते हैं चील कहीं ढोती हैं दाने चिडि़याँ पुट्ठे गिद्धों के …

घर -१

भेजते रहना पिछवाड़े वाले हरसिंगार जितनी हँसी घराल के साथ वाले अमरूद की चमक दुनिया चाहती है तरह-तरह के सवाल रखना शरारतों के बाद मेरे छुपने के ठिकानों अपना …

ख्‍़वाबों के लिए हैं न किताबों के लिए हैं

ख्‍़वाबों के लिए हैं न किताबों के लिए हैं हम रोज़-ए-अज़ल से ही अज़ाबों के लिए हैं चलते भी रहें और न मंज़िल नज़र आए हम अपने ही अंदर …

क्षमायाचना के साथ अमन काचरू के लिए

तुम उधर मत जाना राजधानी के अपराध आंकड़ों को छोड़ जब चला एक शांत कस्‍बे के लिए निश्चिंत था मैं। ठंडी हवाओं ने बताया यहां सुकुन है, यहां के …

कृपया ठुँग न मारें -6

रँभाते बछड़े / कुँकुआते पिल्ले / गरम चादरों में तह लगते खरगोश / पट्टुओं की शक्ल में पसरे भेडू / गुल्ली डंडे के मैदान से बेघर कर दिए गए …

कृपया ठुँग न मारें -5

सूरजप्रकाश ! बेशक अँधेरे कोने में लगे छाबे से दूर दिखते हैं संबंधों के कोण पर यह वक़्त,अपने होने पर संताप करने का नहीं। देखा नहीं तुमने? एक पल पहले …

कृपया ठुँग न मारें -3

वहाँ कोई फ़र्क़ नहीं रहता मूँगफली और सूरजप्रकाश में। उनके छाबे में सौ करोड़ से ज़्यादा मूँगफली जिसके ख़ूब उतरते हैं छिलके। मिलते हैं पुलों/घाटियों में, कई बार बिना …

कृपया ठुँग न मारें -2

वे नफ़ासत से खाते हैं आवाज़ नहीं करते मगर न मालूम,तुम्हारे ‘कृपया’ के ‘डेल कारनेगी’ ने कितने कौव्वों को अपनी चोंच के लिए शर्मसार किया है या कितने चीलों …

कृपया ठुँग न मारें -1

मूँगफली के छाबे पर उसने लिखा ‘कृपया ठुँग न मारें’ और आपको लगा साज़िश के शिकार नागरिक शास्त्र के प्रतीक आपके कोट समेत उतार दिए गए है‍ बाकी कपड़े भी। …

एक हमारा अप्पू है

एक हमारा अप्पू है अप्पू मेरा बेटा है अप्पू मेरा दोश्त है अप्पू है मेरा भाई जिशके शारे बाल उड़ा कर परशों ले गया एक नाई अप्पू बहुत घुमक्कड़ …

उनका जो ख़ुश्बुओं का डेरा है

उनका जो ख़ुश्बुओं का डेरा है हाँ, वही ज़ह्र का बसेरा है सच के क़स्बे का जो अँधेरा है झूठ के शहर का सवेरा है मैं सिकंदर हूँ एक …

अब पसर आए हैं रिश्तों पे कुहासे कितने

अब पसर आए हैं रिश्तों पे कुहासे कितने अब जो ग़ुर्बत में है नानी तो नवासे कितने चोट खाए हुए लम्हों का सितम है कि उसे रूह के चेहरे …

अनकही का जवाब है प्यारे

अनकही का जवाब है प्यारे ये जो अंदर अज़ाब है प्यारे आस अब आस्माँ से रक्खी है छत का मौसम ख़राब है प्यारे अश्क, आहें ख़ुशी ठहाके भी ज़िंदगी …