Category: मनोज कुमार

सांवरे तेरे प्यार में……………….दीवानी हो गयी |भजन| “मनोज कुमार”

सांवरे तेरे प्यार में, गिरधर बातों के जाल में राधा तेरी रानी, दीवानी हो गयी, दीवानी हो गयी कानन कुंडल की ये, मोहिनी मूरत की ये मोहन तेरी रानी, …

विजय दिवस है, आज तिरंगा ऊँचा है………….. |गीत| “मनोज कुमार”

नाचो झूमो गाओ साथी आओआओ साथी मिलके गाओ आओविजय दिवस है, आज तिरंगा ऊँचा हैमिलके ख़ुशी मनायें, तिरंगा ऊँचा हैऊँचा है तिरंगा अपना ऊँचा हैऊँचा है तिरंगा प्यारा ऊँचा …

लग गया है…………. रोग सजना |गीत| “मनोज कुमार”

लग गया है प्यार का ये रोग सजना जाता नही कैसा है ये रोग सजनालाइलाज बीमारी है तड़पूँ सजना लग गया है तुमसे ये दिल सजना लग गया है………………………… …

रटले रटले………….. भोले बाबा|भजन| “मनोज कुमार”

रटले रटले नाम मनवा, शिव शंकर भोले बाबाकरलो मन से शिव की भक्ति, शिव सुधा की हैं धारा रटले रटले नाम मनवा, शिव शंकर भोले बाबारटले रटले………………………………………………. भोले बाबाडोर …

माँ से प्यारा…… सुख सारा है |गीत| “मनोज कुमार”

माँ से प्यारा इस जग में ना, हमको कोई प्यारा हैमाँ की सेवा कर लो, इसके चरणों में सुख सारा है माँ से प्यारा……………………………. सुख सारा हैये रिश्ता है …

८३. मेरे पापा हैं…………..“मनोज कुमार”

मेरे पापा हैंपापा हैं तो क्या है ?पापा हैं विश्वाश हैं उत्सुकता और आस है शक्ति का संचार है मम्मी का भी प्यार है सबसे अच्छे यार हैं पापा …

८०. बस इतनी तमन्ना है………….. गले लगा जाओ |भजन| “मनोज कुमार”

बस इतनी तमन्ना है, गौरा के साथ में आ जाओबस इतनी तमन्ना है, नन्दी के साथ में आ जाओआ जाओ शिव आ जाओ, कैलाश के वासी आ जाओकष्ट करो …

७९. हमें भी अपना लो……….. भस्मी रमने वाले |भजन| “मनोज कुमार”

हमें भी अपना लो मेरे, नाथ डमरू वाले आ जाओ कैलाश से, ओ भस्मी रमने वाले हमें भी अपना लो……………………………….. भस्मी रमने वालेतुम जीवन देने वाले, दया के शिव …

७८. जिन्दगी है तू ही…………………. तू ही प्रीत है |गीत| “मनोज कुमार”

जिन्दगी है तू ही और तू ही मीत है तू साँसें तू धड़कन तू ही गीत है तू आशा मिलन तू ही संगीत हैतू चाहत है दौलत तू ही …

७५. दिल ये तुम तोड़ ना जा सकते “मनोज कुमार”

छोड़ के नही तुम हमें जा सकते मैं चाँदनी हूँ तेरी छोड़ नही सकते मेरा दिल तेरे पास तेरा दिल मेरे पास दिल ये तुम तोड़ ना जा सकते …

७४. महोब्बत…………….. हो गयी है |गीत| “मनोज कुमार”

महोब्बत हो गयी है हो गयी है हो गयी हैकसम से यार जानेमन महोब्बत हो गयी हैतुम्हीं से यार बेइन्तहा महोब्बत हो गयी हैमहोब्बत हो गयी है हो गयी …

७३. महोब्बत प्यार की बातें…………….. पास पाओगे |गीत| “मनोज कुमार”

महोब्बत प्यार की बातें, जब ये तुम जान जाओगे मुझे तुम याद कर लेना, खड़ा तुम पास पाओगे महोब्बत प्यार की बातें………………………………….. पास पाओगेहुस्न चमके गुलाबों सा, खिला है …

७२. मेरी खातिर……………….. जैसी घरवाली |गीत| “मनोज कुमार”

मेरी खातिर कर देती है, इच्छाओं की क़ुरबानी जान से ज्यादा मुझको प्रिय, जन्नत जैसी घरवालीमेरी खातिर……………………………………………………… जैसी घरवालीकभी जो गुस्सा करती है तो, उसमें भी है प्यार भरा …

७१. सारे जग में भारत सा………….देश नही |गीत| “मनोज कुमार”

मेरा भारत, अदभुत भारत, अतुलनीय भारतना ताज जैसी कोई ईमारत कहीं ना गंगा जैसी कोई नदी है कहीं सारे जग में भारत सा कोई नही, देश नही मेरे भारत …

७०. प्यार से कर ली………. तो झुकाने दो |गीत| “मनोज कुमार”

प्यार से कर ली महोब्बत प्यार पाने को वो कर लेंगे स्वीकार नजरें तो झुकाने दो प्यार से कर ली……………..………………………………. तो झुकाने दोहमदम आयेंगे करीब वो हमको सभालेंगे फिर …

६९. क्या कहूँ अब तुमसे………. तेरी हो गयी |गीत| “मनोज कुमार”

क्या कहूँ अब तुमसे तो ये रूह दीवानी हो गयी मीरा सी दीवानी ये दीवानी तेरी हो गयी क्या कहूँ अब तुमसे…………………………………… तेरी हो गयीकल तक थे गरीब बहुत …

६८. हिंदुस्तान की बिटिया मैं………. तेरी दीवानी हूँ |गीत| “मनोज कुमार”

हिंदुस्तान की बिटिया मैं हिन्दी बोली जानी हूँमेरी भारत धरती माँ मैं तेरी दीवानी हूँहिंदुस्तान की बिटिया मैं……………………………….. तेरी दीवानी हूँनैनों में शोले रखती हूँ ये खून सैनानी है …

६७. यूँ रूठो ना……………..इतराया ना करो |गीत| “मनोज कुमार”

यूँ रूठो ना करो, यूँ गुस्सा ना करो इतना ना सताओ तुम, इतराया ना करोयूँ रूठो ना……………………………………………..इतराया ना करोहम प्यार तुम्हें जां प्यार से ज्यादा करते हैं कर लो …

६६. तेरे चेहरे पे तो………………………….. तोड़ लायेंगे |गीत| “मनोज कुमार”

तेरे चेहरे पे तो हम मर मिट जायेंगे तेरे लिये हम चाँद तारे तोड़ लायेंगे तेरे चेहरे पे तो………………………….. तोड़ लायेंगेकिस दुनिया से लायी हो रूप रानी प्यार से …

६५. दिल करता है……………. कर देता हूँ |गीत| “मनोज कुमार”

मैं और मेरी कलम……………..दिल करता है जब जब में,लिख देता हूँ |मैं अपनी कलम से अपना, दर्द बयाँ कर देता हूँ ||मैं और मेरी कलम हम दोनों, एक दूजे …

६४. छोड़ दी है………….तेरे ही लिये |गीत| “मनोज कुमार”

छोड़ दी है नौकरी भी तेरे ही लियेलगने लगे चक्कर गली तेरे ही लियेदेखा तुझे गाने लगा गीत भी दिलतेरे इस मुखड़े पे ये मरने लगा दिलसौ – सौ …