Category: दाग़ देहलवी

न जाओ हाल-ए-दिल-ए-ज़ार देखते जाओ

न जाओ हाल-ए-दिल-ए-ज़ार देखते जाओ कि जी न चाहे तो नाचार देखते जाओ बहार-ए-उमर् में बाग़-ए-जहाँ की सैर करो खिला हुआ है ये गुलज़ार देखते जाओ उठाओ आँख, न शरमाओ …

दिल गया तुम ने लिया हम क्या करें

दिल गया तुम ने लिया हम क्या करें जानेवाली चीज़ का ग़म क्या करें पूरे होंगे अपने अरमां किस तरह शौक़ बेहद वक्त है कम क्या करें बक्श दें …

दिल को क्या हो गया ख़ुदा जाने

दिल को क्या हो गया ख़ुदा जाने क्यों है ऐसा उदास क्या जाने कह दिया मैं ने हाल-ए-दिल अपना इस को तुम जानो या ख़ुदा जाने जानते जानते ही …

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए जान-ए-आशिक़ हो के जाना , कोई तुम से सीख जाए हमसुख़न पर रूठ जाना , कोई तुम …

तेरी महफ़िल में यह कसरत कभी थी

तेरी महफ़िल में यह कसरत कभी थी हमारे रंग की सोहबत कभी थी इस आज़ादी में वहशत कभी थी मुझे अपने से भी नफ़रत कभी थी हमारा दिल, हमारा …

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था न था रक़ीबतो आख़िर वो नाम किस का था वो क़त्ल कर के हर किसी से पूछते हैं ये काम …

डरते हैं चश्म-ओ-ज़ुल्फ़, निगाह-ओ-अदा से हम

रते हैं चश्म-ओ-ज़ुल्फ़, निगाह-ओ-अदा से हम हर दम पनाह माँगते हैं हर बला से हम माशूक़ जाए हूर मिले, मय बजाए आब महशर में दो सवाल करेंगे ख़ुदा से …

ज़बाँ हिलाओ तो हो जाए,फ़ैसला दिल का

ज़बाँ हिलाओ तो हो जाए,फ़ैसला दिल का अब आ चुका है लबों पर मुआमला दिल का किसी से क्या हो तपिश में मुक़ाबला दिल का जिगर को आँख दिखाता …

ग़म से कहीं नजात मिले चैन पाएं हम

ग़म से कहीं नजात मिले चैन पाए हम दिल ख़ूँ में नहाए तो गंगा नहाए हम जन्नत में जाए हम कि जहन्नुम में जाए हम मिल जाए तू कहीं …

ग़ज़ब किया, तेरे वादे पे ऐतबार किया

ग़ज़ब किया, तेरे वादे पे ऐतबार किया तमाम रात क़यामत का इन्तज़ार किया हंसा हंसा के शब-ए-वस्ल अश्क-बार किया तसल्लिया मुझे दे-दे के बेकरार किया हम ऐसे मह्व-ए-नज़ारा न …

ख़ातिर से या लिहाज़ से मैं मान तो गया

ख़ातिर से या लिहाज़ से मैं मान तो गया झूठी क़सम से आप का ईमान तो गया दिल ले के मुफ़्त कहते हैं कुछ काम का नहीं उल्टी शिकायतें …

क्यों चुराते हो देखकर आँखें

क्यों चुराते हो देखकर आँखें कर चुकीं मेरे दिल में घर आँखें ज़ौफ़ से कुछ नज़र नहीं आता कर रही हैं डगर-डगर आँखें चश्मे-नरगिस को देख लें फिर हम …

क्या लुत्फ़-ए-सितम यूँ उन्हें हासिल नहीं होता

क्या लुत्फ़-ए-सितम यूँ उन्हें हासिल नहीं होता ग़ुँचे को वो मलते हैं अगर दिल नहीं होता कुछ ताज़ा मज़ा शौक़ का हासिल नहीं होता हर रोज़ नई आँख, नया …

काबे की है हवस कभी कू-ए-बुतां की है

काबे की है हवस कभी कू-ए-बुतां की है मुझ को ख़बर नहीं मेरी मिट्टी कहाँ की है कुछ ताज़गी हो लज्जत-ए-आज़ार के लिए हर दम मुझे तलाश नए आसमां …

कहाँ थे रात को हमसे ज़रा निगाह मिले

कहाँ थे रात को हमसे ज़रा निगाह मिले तलाश में हो कि झूठा कोई गवाह मिले तेरा गुरूर समाया है इस क़दर दिल में निगाह भी न मिलाऊं तो …

उज्र् आने में भी है और बुलाते भी नहीं

उज़्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं बाइस-ए-तर्क-ए मुलाक़ात बताते भी नहीं मुंतज़िर हैं दमे रुख़सत के ये मर जाए तो जाएँ फिर ये एहसान के हम …

इस अदा से वो वफ़ा करते हैं

इस अदा से वो वफ़ा करते हैं कोई जाने कि वफ़ा करते हैं हमको छोड़ोगे तो पछताओगे हँसने वालों से हँसा करते हैं ये बताता नहीं कोई मुझको दिल …

आफत की शोख़ियां हैं

आफत की शोख़ियां है तुम्हारी निगाह में मेहशर के फितने खेलते हैं जल्वा-गाह में.. वो दुश्मनी से देखते हैं देखते तो हैं मैं शाद हूँ कि हूँ तो किसी …

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता कभी जान सदक़े होती कभी दिल निसार होता न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में कोई ग़ैर ग़ैर होता …