Category: चन्द्र मोहन किस्कु

प्यार ही तो है

तुमसे है प्यार और तुम जन्म – जन्मांतर की दोस्त हो .तुम्हारे और मेरे इस पवित्र प्यार के बीचभला गरीबी – अमीरी का क्या काम ?उम्र,जाति-धर्म का क्या अर्थ …

मैं लिखूंगी प्यार

मैं लिखूंगी प्यार उस दिन जिस दिन मनुष्यों की ईर्षा की आग से सुख  जाएंगेपेड़-पौधों की हरे पत्ते उजड़ने आरम्भ होगा जंगल औरधँसना शुरू होगा ऊँची पहाड़ी मैं लिखूंगी …

कविता

वृक्ष का सोना और जागना फूलों पर गिरी शबनम निशब्द की शोर प्रतिरोध का जन्म धन की बालियां खिली फूल बच्चे की हँसीयुवा ह्रदय की प्यार गरीबों की कठोर …

आज नहीं

जब आसमान रंग -विरंग बादलों से सजे रहेंगे सूरज के सामने नहीं रहेगा धुंध पेड़-पौधों में हरियाली रहेगा और सुख-शांति की बातें करेंगेजिस दिन की सुबह हर्ष और आरामवाली …

सुबह की आसमान

सुबह-सुबह पंक्षी उड़ते है आसमान की इस छोर से उस छोर सूरज की सन्देश को पहुंचाते है जैसे सुबह की अख़बार देते जा रहे है .तोता पंक्षी फूलों की …

शांति की कविता

आसमान में जब गुस्से का आग जल उठेगा जब खेत में उगेगा बोमा,बारूद और बन्दुक हवा में रहेगा विष धर्म दो रूपया भाव से बिकेगा मानवता खून से लतपथ …

माओवादी नहीं हूँ

मैं खेत में खलिहान में काम करता हूँ ईंट भट्टा मेंक्रेशर मशीनों में काम कर पेट भरता हूँ तुम्हारी भाषा मुझे आती नहीं देह की रंग मेरा अलग है …

आजादी का सपना

खिड़की की उसपार से झांक रही वो दोनों आँखें सपना देखती है अनंत नीले आसमान का सुगंध बिखेरनेवाली हवा की और पंख पसारकर हर्ष और आनंद के साथ उड़ने …

हूल का आग जला

जब छीन उजाड़ रहे थे लोगों का घर,आंगन कपड़े-लत्तेहरियाली जंगल खेत-खलिहान और मिट्टी के अंदर का पानी तब हूल का आग जला काला धुँआ निकला आसमान की ओरजब छीन …

सबरनाखा की स्थायित्व

वह कल-कल बह रही सबरनाखा नदी जिसकी गोद में खेला था बचपन में .देख रहा हूँ अब कल-कारखानों की प्यास बुझाने में सूख गई है .उसकी देह से लिपटी …

तुम्हारा प्यार पाकर

तुम्हारा प्यार पाकर पहाड़-पर्वतों के पेड़-पौधे अति सुन्दर ‘हरे’हुए है नदी भी अपनी चाल बदली है कल-कल गीत गाकर बहती जा रही है कोयल भी गा रही है घर …

याद है तुम्हे ?

याद है तुम्हे कब माँ के साथ बहुत प्यार के साथ मुलाकात किया था जीवन की चढ़ाई-उतराईदुःख और कष्टों को सुलझाने के लिए अनुभवी पिता के पास गये हो …

गरीब आदमी

एक आदमीसालों से पेट की भूखभुलाने के लिएउस बड़े गड्ढे को भरने के लिए ईश्वर से प्रार्थना किया अल्ला का भी नाम लिया गिरजे में जेशु के पास जाकर …

कविता की जंगल

लिखी गई है बहुत सी कवितायेँ पहलेबहुत सारी जगहों पर अनेक विषयों पर देश और विदेशों में भी लिखी जाएगीबहुत सी कवितायेँ वहां जहाँ लिखी नहीं गई हैजानी,अनजानीदेशों पर …

प्यारी

मैं आनंद दायिनी आँगन मेंफूलों सा खिलता हूँ सुगंध फैलता हूँ .पंख फैलाकर उड़ती हूँ अनंत नील आसमान में शिकारियों की तीक्षन दृष्टि मुझ पर है डर लग रहा …

रौशनी के लिए

रौशनी के लिए ——————सुबह दहलीज में पड़ी अख़बार नहीं हूँ मैंपढ़ती हूँ सुबह -सुबह जल्दी में और शाम को फ़ेंक देते हो रद्दी के साथ कैलेंडर भी नहीं हूँ …

कित -कित खेलवाली बचपन

कित -कित खेलवाली बचपन —-चंद्र मोहन किस्कू ———————————-नगर की कंक्रीट जंगल में खो गई है मेरी कित -कित खेलवाली बचपन आंगन,जंहा लेटकर दादाजी से कहानी सुनता था अब वह …

बौद्ध की हंसी

बौद्ध की हंसी —————आज ही खबर मिला पुरे दुनिया के लोगों को मालूम हुआ कल राजस्थान के पोखरण में अहिंसा के पुजारी गौतम बौद्ध के जन्मदिन पर वैज्ञानिकों ने …

नींदवाली स्वप्न

नींदवाली स्वप्न——————-रात की नींद में स्वप्न देखती है लड़की हंसती है निश्चिंत होकर खुशी से जाती है और दौड़ती रहती है रंगीन तितलियों के पीछे पंक्षी बनकर उड़ती रहती …

नगर

नगर ———–नगर में उगते नहीं है चौड़ी रिश्तेवाली हरी खेत नगर में उगते है तंग रिश्तेवाली गमले की फूल नगर में होता नहीं सोहराय ,साकरात और बाहा पर्व नगर …