Tag: www.bhorabhivyakti.tk

कविता..!!

मैं शुष्क चिरागों की भाँति,वह मधुवन वृक्ष की छाया-सी।मैं ठोस-कठोर हूँ हाड़ सदृश,वह निर्मल-कोमल काया-सी॥ वह पौ फटते यादों में आती,मैं न आता शाम तलक।वह गद्य रूप छा जाती …

गुल्लक

मैंने भी गुल्लक भर-भर के,ख़्वाब कई देखे थे।कई दफ़ा फिर झाँक-झाँक कर,सिक्के ख़ूब गिने थे॥वही बेचारी गुल्लक मेरी,याद मुझे करती है।बचपन के सिक्के मेरे,महफूज़ अभी रखती है॥जोड़-जोड़ कर सिक्के …

पास मेरे तुम आ जाना..!

जब चल-चल तुम थक जाओ,तब पास मेरे तुम आ जाना।सब जग से ठोकर पाओ,तब पास मेरे तुम आ जाना॥नहीं कहूँगा तुमसे कि,जब चले गए थे आए क्यों।सोच-सोच के इधर-उधर …

तू ठहर सही, मैं आऊँगा..!

सोचा है इस बार सही, मिल कर सब कुछ कह जाऊँगा।हाँ माना कुछ देर रही, तू ठहर सही, मैं आऊँगा॥शायद पता है तुझको सब, पर कहना बड़ा ज़रूरी है।मेरे …

भावना का ज़ोर..!

आज मेरी लेखनी में,भावना का ज़ोर है।एकांत में हूँ मैं लेकिन,हर तरफ़ बस शोर है॥धीमे-धीमे चल रही है,लेखनी कुछ सोच कर।लिख चुका, न मिट सकेगा,यह विचार हर रोज़ कर॥क्या …

मेरे गूगल जी महाराज!

मेरी नाव फ़ँसी मझधार,कुछ तो राह दिखाओ आज।कुछ तो राह दिखाओ आज,मेरे गूगल जी महाराज॥तुम्हरे बिन कोई रह ना पावे,अन्न-पानी सब रास न आवे।जब-जब तुम्हरे दर्शन ना हों,अटक पड़ें …

अच्छा है…! (अतिरिक्त)

प्रस्तुत कविता मेरे द्वारा पूर्व में “हिन्दी साहित्य” में प्रकाशित की गयी कविता “अच्छा है…!” से प्रेरित है और एक साथ दोनों ही बेहतर अर्थ प्रदान करती हैं, कृपया …

नक़ाब

छोटी-सी इस दुनिया में,दाग-ए-ग़म कुछ गहरे हैं।मत यकीन करना ऐ दिल,यहाँ सभी नक़ाबी चेहरे हैं॥लाख़ लोग दस लाख़ हैं चेहरे,कौन सत्य है कौन प्रपंच।असमंजस में है यह दिल,यहाँ सभी …

तुमसे क्या कहें…

कीमतें किसने लगायीं,नाम तुमसे क्या कहें।बिक रहे हैं कौड़ियों के,दाम तुमसे क्या कहें॥आज का जो फ़लसफ़ा है,आज ही तो ख़त्म है।कल ना जाने क्या रहे,अंजाम तुमसे क्या कहें॥आजकल हर …

आहिस्ता

तेरी ख़ातिर आहिस्ता,शायद क़ामिल हो जाऊँगा।या शायद बिखरा-बिखरा,सब में शामिल हो जाऊँगा॥शमा पिघलती जाती है,जब वो यादों में आती है।शायद सम्मुख आएगी,जब मैं आमिल हो जाऊँगा॥पेशानी पर शिकन बढ़ाती,जब …

जैसे कवि रचना करता है!

कितनी पास है तू,पर दूर भी कितनी है,तारों के बीच में दूरी जितनी है,एक दिन तो शायद, ये दूरी मिटनी है॥तेरा अख़्स है मुझमें यों जैसे,दरिया में चाँद की …

अच्छा है…

कुछ चीजों को देख के यूँ ही,नज़र चुराना अच्छा है।बोल के पछताने से ज्यादा,चुप हो जाना अच्छा है॥कभी-कभी हालात बदलते,ख़ुद, ‘मैं’ बदला जाता हूँ।हाँ शायद, हालात के सम्मुख,शीश झुकाना …

हाँ, इक पागल

चुपके-चुपके सहे अकेले,मुख से कुछ न कहता है।हाँ, इक पागल घड़ियाँ तकता,इंतज़ार में रहता है॥थोड़े पल, औ ज़रा-सी चिंता,की ख़्वाहिश वो करता है।मन ही मन उम्मीद लगाए,पर कहने से …