Tag: raas chhand

रास छंद “कृष्णावतार”

रास छंद “कृष्ण जन्म” हाथों में थी, मात पिता के, सांकलियाँ। घोर घटा में, कड़क रहीं थी, दामिनियाँ। हाथ हाथ को, भी नहिं सूझे, तम गहरा। दरवाजों पर, लटके …