Tag: poetry

जीवन साथी

मेरी अनकही अमानत, मेरी इकलौती इबादत,मेरी ज़रूरत, तु ही तो है मेरी ज़िंदगी,ज़ख़्मों का मरहम, मेरा नादान बचपन,मेरी हँसी, तु ही तो है मेरी अमादगी । मेरी पहली उम्मीद, मेरा …

हूँ मज़दूर मैं भारत का

घर जाने की कीमत अपनीमैं लाशों से चुकाता हूँहूँ मज़दूर मैं भारत काअपने घर को जाता हूं।दो रोटी की भूख को अपनीमैं गमछे से दबाता हूँबिन चप्पल ओर भूखा …