Tag: poem

हां मैं वही गांव हूं । ( Corona special )

—-हां मैं वहीं गांव हूं।—- हां मैं वहीं गांव हूं।मैं वहीं पीपल की छांव हूं।जिसे तुम अपनी भौतिक सुखों के लिए कभी गंवार समझ कर छोड़ गए थे।हां मैं …

Mrat Kaaya Ka Rodan (मृत काया का रोदन) POEM NO. 230 (Chandan Rathore)

POEM NO . 230————मृत काया का रोदन————मृत काया के लिए हुआ आज फिर करुणा मय रोदन |छोटे छोटे बच्चों की आशाओं का हुआ शोषण ||रूठ गए जग छोड़ गए …

आँखें – अनु महेश्वरी

अक्सर खामोश रहकर भी,रो लेती है आँखें,अपने दर्द को औरो से,छुपा लेती है आँखें| अनु महेश्वरीचेन्नई Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день …

संयुक्त व मज़बूत भारत – अनु महेश्वरी

बच्चों पे ज़्यादा सख्ती,उन्हें झूठ बोलना सिखाती है,उनपे ज्यादा नरमी भी,राह से उन्हें भटका सकती है,जीवन में संयम और अनुशासन के साथ,चरित्रवान वो बने, बस इतना जरुरी है|शिक्षा, सभी …

ऑक्सीजन – अनु महेश्वरी

जब तक है स्वस्थ,निःशुल्क मिलती,हवाओं से, फायदा उठा,प्राणायाम रोज किया करे|हो गए बीमार अगर,दवाओं के साथ, तब,ऑक्सीजन की भी,कीमत लग सकती|जब रोग जात-पात,या धर्म नहीं देखता,फिर हम इंसान, क्यों,योग …

लोग क्या कहेगें – अनु महेश्वरी

बड़ी ही उलझन है,हम सबकी ज़िन्दगी में,”लोग क्या कहेंगे”,यह बात एक न एक बार,हम सबने, अपने बड़ो से,सुनी ज़रूर होगी|कौन है यह लोग?और हमसे नाता क्या है?और क्यों ये …

ईश्वर का अस्तित्व – अनु महेश्वरी

मेरे साथ घटने वाली,घटना अच्छी हो या बुरी,भगवान में मेरा विश्वास,कभी न डगमगा पायी।बल्कि मेरा तो विश्वासप्रबल हुआ है और भी।अच्छी घटना को मैंने,ईश्वर का प्रसाद माना,और बिना किसी …