Tag: mktvfilms

चिड़िया

शाम बढ़ती जा रही थीबेचैनी उमड़ती जा रही थीशाख पर बैठी अकेलीदूर नजरों को फिरातीकुछ नजर आता नहीँफिर भी फिरातीचीं चीं करती मीत को अपने बुलातीपंख अपने फड़फड़ातीबाट में …

शाम ।

वक़्त से पहले ही, बुझ जाती है शाम, उन ग़रीबों की,रोज़ी देने वाले अमीर, जब से ख़ुद ही ख़ुदा बन गए…!मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०१ डिसम्बर २०१६. Оформить и …

वजह ।

प्यार करने की भी, कोई वजह होती है क्या ?प्यार तो अमर, रूह का अटूट हिस्सा होता है…!मार्कण्ड दवे । दिनांकः १९ नवम्बर २०१६. Оформить и получить экспресс займ …

तजुर्बा ।

ज़िंदगी को ही, तय करने दे उसे क्या चाहिए,फिर, तजुर्बा भी तो, काम आना चाहिए किसी दिन…!मार्कण्ड दवे । दिनांकः १९ नवम्बर २०१६. Оформить и получить экспресс займ на …

अक्स ।

रूह और तुम, दोनों अक्स हो मेरे,बता किस से, जुदा होने पर मर जाऊँ…!अक्स = प्रतिबिम्ब;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १९ नवम्बर २०१६. Оформить и получить экспресс займ на карту …

छलावा ।

छलावा है बारबार, चोला बदलना उसका,दुःख ही तो आता है, पहन के चोला सुख का…!छलावा = प्रपंचः चोला = पहनावा;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १४ जून २०१६. Оформить и получить …

सिरफिरे जज़बात ।

सिरफिरे जज़बातों को, सिर पर बिठा कर क्या मिला ?ना मिला प्यार , न यार, न रिश्ता, ना ज़रा सा क़रार…!सिरफिरे = सनकी;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १४ जून २०१६. …

ख़्वाब ।

तूने कैसी नज़र से देखा, आकर के मेरे ख़्वाब में?तेरे मुताल्लिक, सारे ख़्वाब, जल गए मेरे ख़्वाब में…!मुताल्लिक = संबंधित;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १६ नवम्बर २०१६. Оформить и получить …

चांदनी रात ।

चांदनी के बदन से, रौशनी चुरा के, ओढ़ लेता हूँ,जब तुम्हारी याद, चांदनी रातों में, सताती है मुझे..!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २८ जुलाई २०१६. Оформить и получить экспресс займ …

भरोसा ।

शायद, अपनी काबिलियत पर, अब उसे भरोसा नहीं रहा,अहसास-जज़बात की रगों को, काटने पर तूला है दिल..!काबिलियत = हुनर; अहसास = अनुभव; जज़बात = मनोभाव; रग = नस,बुनियाद; तूलना …

साथ ।

बुरे वक़्त में, साथ दिया था जिन-जिन का, हर वक़्त मैंने,कह कर, आज धतकार दिया, सब ने, `हम तुम्हें जानते नहीं..!`धतकारना = अपमानित करना;मार्कण्ड दवे । दिनांकः११ नवम्बर २०१६. …

यादें ।

आते-जाते दिन-रात से चंद लम्हें चुरा कर,जिंदा यादों को आज फिर दफ़ना दिया मैंने…!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० सप्टेम्बर २०१६. Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа …

लुत्फ़ ।

कभी हम से भी तो,पंगा लिया कर ज़ालिम,बड़ा लुत्फ़ होता है, रुठे को मनाने में…!पंगा = तकरार; लुत्फ़ = आनंद;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० अगस्त २०१६. Оформить и получить …

तहज़ीब ।

तहज़ीब की आसान राहों में, काँटे बिखेर के चल दिए,भरी महफ़िल में इज्ज़्त को तार-तार कर के चल दिए..!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० ओक्टॉबर २०१६. Оформить и получить экспресс …

आसमान ।

आसमाँ भी गिर गया, ख़ुद की नज़रों से नीचे,जब भी देखा, इन्सान को तिल-तिल के मरते ।नज़रों से गिरना = बहुत शर्मिंदा होना; तिल-तिल के = घुट-घुट के-बेबसी में;मार्कण्ड …

नमक ।

जलनेवाले हँसने लगे हैं, इन बेस्वाद ज़ख़्मों पर,हो सके तो फिर से तू आजा, नमक छिड़कने ज़ख़्मों पर…!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० अगस्त २०१६. Оформить и получить экспресс займ …

डगर प्यार की ।

आगाह करना चाहिए, मुसीबतों से पहले ही,हम तो समझे थे, आसाँ होगी डगर प्यार की..!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० अगस्त २०१६. Оформить и получить экспресс займ на карту без …

इंतज़ार ।

उसकी बातों से लगता है, बहुत थक चुका है वो,अय इंतज़ार, तुझे बेसब्र होने कि ज़रुरत न थीं..!बेसब्र = धैर्यहीन;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० ओक्टॉबर २०१६. Оформить и получить …

अनजान ।

बेजान चीज़ों से, बातें करने का दिल करता है,कहते थे जिसे जान वो, अनजान बन गए आजकल..!बेजान = अचेतन; अनजान = अपरिचित;मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०२ जुलाई २०१६. Оформить …

बाद मेरे ।

इतरा मत इतना ख़ुद से, बाद मेरे क्या होगा,ज़मीनो – आसमाँ भी, बाद तेरे ये जहाँ होगा…!इतराना = घमंड करना;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० अगस्त २०१६. Оформить и получить …