Tag: mehnat poem

मजदूर नहीं तो कुछ नहीं – आशीष अवस्थी

मजदूर नहीं तो हम नहीं, आप नहींपुल नहीं,सड़क नहीं कारखानों में भाप नहींघर नहीं, नगर नहीं विकास का कोई माप नहींमज़बूरी नहीं,लाचारी नहीं गरीबी का ये सांप नहींमेहनत नहीं, …

मेहनत करना सीखो….-पियुष राज

मेहनत करना सीखो…जरुरी नहीँ की सफलताएक बार में हासिल होपहले तुम देखोतुम कितना उसके काबिल होबार-बार असफल होने पर भीना हो कभी निराशकड़ी मेहनत करते जाओऔर मन में रखो …