Tag: hindi poem on sharabi

रास्ता मैं बतलाता हूँ- आशीष अवस्थी

राहों के पत्थर देखे इतनेके अब नहीं संभल पाता हूँअपने पीछे चलते चलतेखुद से दूर निकल जाता हूँअब तो कोई रोक लो आकेमैं लीक तोड़ कर जाता हूँफिर न …