Tag: ग़ज़ल(दुनियाँ में जिधर देखो हज़ारों रास्ते दीखते )

ग़ज़ल(दुनियाँ में जिधर देखो हज़ारों रास्ते दीखते )

किसको आज फुर्सत है किसी की बात सुनने कीअपने ख्बाबों और ख़यालों में सभी मशगूल दिखतें हैंसबक क्या क्या सिखाता है जीबन का सफ़र यारोंमुश्किल में बहुत मुश्किल से …