Tag: हिन्दी कविता

प्रथम पहचान

  ॥    प्रथम पहचान ॥ पहचान का मुखौटा भले दिखाई नहीं देता मगर जिस चेहरे पे है चढ़ताउस सिर पे है राज करता बहुत खामोशी से काम करता हैअपना ही …

रिश्तों के पुल

आँखों के समंदर में विश्वास की गहराई से बन जाते हैं रिश्तों के पुल दिलों का आवागमन जज्बातों का आदान प्रदान कराते हैं रिश्तों के पुल दायरे होते हैं …