Tag: स्त्रग्धरा छंद

स्रग्धरा छंद “शिव स्तुति”

स्रग्धरा छंद “शिव स्तुति” शम्भो कैलाशवासी, सकल दुखित की, पूर्ण आशा करें वे। भूतों के नाथ न्यारे, भव-भय-दुख को, शीघ्र सारा हरें वे।। बाघों की चर्म धारें, कर महँ …