Tag: सुर……..

सुर……..डी. के. निवातिया !!

पत्थरो में खिला सकते है फूलबस जरा भावनाओ के सुर मिला लीजिये !हमसफ़र बन जाये गर दुश्मनफिर राहे सफर का  अंजाम क्या कीजिये !!!!!डी. के. निवातिया !! Оформить и …