Tag: सावन आया

सावन आया — डी के निवातिया

सावन आया *** सावन आयाबरसते बादलपपीहा बोले !! वज्र कड़केघनघोर है घटानाचे मयूर !! प्रथम वर्षाजलाशय प्रतापनहाते बाल !! बूंदे गिरतीपुलकित रमनाचहके खग !! बहे फुहारलहलाती फसलेझूमे कृषक !! …