Tag: सलीम रज़ा रीवा

बुलन्दी मेरे जज़्बे की – salimrazarewa

बुलन्दी मेरे जज़्बे की ये देखेगा ज़माना भीफ़लक के सहन में होगा मेरा इक आशियाना भीअकेले इन बहारों का नहीं लुत्फ़-ओ-करम साहिबकरम फ़रमाँ है मुझ पर कुछ मिजाज़-ए-आशिक़ाना भीजहाँ …

जहां में तेरी मिसालों से रौशनी – सलीम रज़ा

जहां में तेरी मिसालों से रौशनी फैलेकि जैसे चाँद सितारों से रौशनी फैलेतुम्हारे इल्म की खुश्बू से ये जहाँ महकेतुम्हारे रुख़ के चराग़ों से रौशनी फैलेक़दम क़दम पे उजालों …

राह पर सदाक़त की गर – सलीम रज़ा

साथ तुम नहीं होते कुछ मज़ा नहीं होतामेरे घर में खुशियों का सिलसिला नहीं होताराह पर सदाक़त की गर चला नहीं होतासच हमेशा कहने का हौसला नहीं होताकोशिशों से …

अन-गिनत फूल मोहब्बत के चढ़ाता जाऊँ-सलीम रज़ा रीवा

अन-गिनत फूल मोहब्बत के चढ़ाता जाऊँ आख़िरी बार गले तुझ को लगाता जाऊँ oo जाने इस शहर में फिर लौट के कब आऊँगा पर ये वादा है तुझे भूल …

क़िता – 2 ( मुक्तक ) सुब्हे किरण के साथ नई रौशनी मिले : SALIM RAZA REWA

oo सुब्हे किरण के साथ नई रौशनी मिले !! गुलशन के जैसी महकी हुई ज़िंदगी मिले !! ये है दुआ तुम्हारा मुक़द्दर रहे बुलंद  !! तुमको तमाम उम्र ख़ुशी ही ख़ुशी …