Tag: सर काटते रहे

सर काटते रहे — डी के निवातिया

वो हमारे सर काटते रहेहम उन्हें बस डांटते रहे !! वो पत्थरो से मारते रहेहम उन्हें रेवड़ी बाटते रहे !! लालो की जान जाती रहीहम खुद को ही ठाटते …