Tag: लैंगिक न्याय

बेटी है तो कल है

बेटी जिन्हें नापसंद है, वे नहीं भरोसेमंद हैंबेटी मिलती किस्मत से, देखो न इसे नफ़रत सेये बेटी है बेटा भी, बेटा है सिर्फ बेटा हीये दो परिवार मिलाए, बच्चों …