Tag: रात

मैने लिखना छोड़ दिया है:अनन्य

**मैने लिखना छोड़ दिया है:Er Anand Sagar Pandey** “मैने लिखना छोड़ दिया है बासन्ती जज़्बातों को,प्रियतम की बिरहा में बीती सघन अकेली रातों को,मुझको मेरे शब्दकोष का दामन मैला लगता …

मेरा ये हुक्म है सांसों:: आनंद सागर

ताज़ा गज़ल- मेरा ये हुक्म है सांसों::Er Anand Sagar Pandey मेरा ये हुक्म है सांसों कि एहतियात रहे, वो रहे ना रहे ता-उम्र उसकी बात रहे l वो क़मर …