Tag: मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

नूर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

नूर लाखों चिराग जलाये थे हमने राहों पर तेरे आने की खबर सुनकर पर सारा आलम फ़ीका हो गया तेरे चेहरे के नूर सेसर्वजीत सिंह [email protected] Оформить и получить …

हादसा – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

हादसा महोब्बत की राह पर चलना शुरू किया तो पता लगा के बहुत टेढ़े मेढ़े हैं रास्ते जिसे देखकर समझ आया के सावधानी हटी तो दुर्घटना घटीऔर दुर्घटना घट …

भंवर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

भंवर अपने प्यार की नैया के खेवैया तो हमीं थे फिर दोष दें किसको ………………..के हमें डूबो दिया मोहब्बत के भंवर में …………………….सर्वजीत सिंह [email protected] Оформить и получить экспресс …

नज़रें – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

नज़रें नज़रें उनकी ढूंढे हमें चलो ऐसा कोई काम करें दिल उनका चुरा के उनकोथोड़ा सा परेशान करेंसर्वजीत सिंह [email protected] Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа …

ख्वाहिश – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

ख्वाहिश दिल की ये ख्वाहिश थी ………………कि मैं तेरी हर ख्वाहिश पूरी करूंपर मुझे मालूम ना था ……………………कि तेरी ख्वाहिश तो है सिर्फ मुझे बर्बाद करने की सर्वजीत सिंह[email protected] …

प्यार की दिवाली – मेरी शायरी ……. बस तेरे लिए

प्यार की दिवाली दीपों का त्योहार है दिवालीहंसी खुशी और प्यार है दिवाली ……………….मोहब्बत का रंग जब चढ़े किसी परफिर दिलभर का इज़हार है दिवाली …………………….शायर: सर्वजीत सिंह [email protected]mail.com …

राज़ – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

राज़दिल का हर राज़ मैं आज तुमको बता दूंगा …………………….पर शर्त ये है के तुम भी अपना दिल खोल कर रख दो ………………………. शायर : सर्वजीत सिंह [email protected] Оформить …

मंज़िल – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

मंज़िलकई बार घबरा जाता है ये दिल देख कर ज़िन्दगी की मुश्किलें ……………………पर कभी मैं टूटा नहीं हौसला छोड़ा नहीं क्योंकि लगता है के मंज़िल बहुत करीब है …………………. …

अश्क़ – मेरी शायरी ……. बस तेरे लिए

अश्क़अश्क़ बहुत बहाये मैंने तेरी मोहब्बत में ………………पर मुद्दत के बाद जाना के तू पत्थर का ईक बुत है ……………………..!!!शायर : सर्वजीत सिंह[email protected] Оформить и получить экспресс займ на …

गलतफहमी – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

गलतफहमीदिल की ये तमन्ना थी कि हमसफ़र मिले कोई अपने जैसे मिज़ाज का मिल तो गया लेकिन अब पछता रहा हूँ ये सोच सोच कर कि कितनी बड़ी गलतफहमी …

ठोकर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

ठोकरठोकर ना मारो मुझे रास्ते का पत्थर समझ कर …………………अगर किस्मत ने उठा के मंदिर में रख दिया तो मैं पूजा जाऊँगा ……………………………………..शायर : सर्वजीत सिंह[email protected] Оформить и получить …

ग़म ज़दा – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

ग़म ज़दा कोई आवाज़ ना दो मुझको …………………अब मुझे कुछ सुनाई ही नहीं देता क्योंकि दिल के टूटने के बाद ……………………. ग़म ज़दा हुआ पड़ा हूँ मैशायर : सर्वजीत …

झंकार – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

झंकारदिल धड़कने लगता है बड़ी जोर से सुनके तेरी पायल की झंकार ………………ज़रा आहिस्ता आहिस्ता चला करो कुछ वक़्त तो मिले बेकरार दिल को संभालने का ……………… शायर : …

दस्तक – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

दस्तकसीने में उठा है इक पुराना दर्द आज फिर से …………………लगता है के दिल के दरवाजे पे मोहब्बत ने फिर से दस्तक दी है ……………….. शायर : सर्वजीत सिंह …

ख़बर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

ख़बरख़बर उसके आने की सुन कर ………………….दिल झूम उठा पागल हो करपर इस नासमझ को कौन समझाये ………………………के अभी तो उससे …. अपनी जान पहचान होना भी बाकि हैशायर …

चाह – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

चाहदिल की ये चाह थी के बहुत प्यार करेंगे हम अपनी चाहत से …………………..पर जिसको चाहा हमनें उसकी चाहत कोई ओर था ……………………..शायर : सर्वजीत सिंह [email protected] Оформить и …

दामन – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

दामनकिस्मत ने साथ दिया होता अगर तो हम भी मोहब्बत कर ही लेते ……………….पर बदनसीबी ने पकड़ा है दामन ऐसा के अब किसी से क्या गिला करें ………………..शायर : …

कैसे कहें – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

कैसे कहें हम कैसे कहें किसी से ……………………………के हमको उनके दीदार की चाहत नहीं ये दिल तो तड़पता रहता है हर पल …………………..उनकी इक झलक पाने के लिए शायर …

मौसम – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

मौसमरूप खिल गया है और भी तुम्हारा …………….इस खुश गवार मौसम में कैसे सम्भालें हम खुद को …………………… तुम्हारी जान लेवा अदाओं से बचने के लिए शायर : सर्वजीत …

बेवफा-ए-मोहब्बत-II

मैंने तेरी हर बात पे हामी भरी, चाहे मुझे मंजूर हो या नहीं भी , तेरे इख्लास की इक़्तिज़ा में इज़्तिरार इतना के , मैंने बिन इख्त़ियार के इतिबार …

खुदा करे – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

खुदा करे ख़त्म हो गए हैं सारे लफ्ज़ तारीफ करने के लिए उसके हुस्न की खुदा करे के अब वो आँखों से ही समझ ले मेरे मोहब्बत भरे दिल …

मशहूर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

मशहूर हुस्न वालों से दोस्ती करके मशहूर तो हम भी हो गए ………………………. चर्चे जब होते हैं उनके हुस्न के तो ज़िक्र हमारा भी आ ही जाता है ………………… …

मदहोश – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

मदहोश अपनी मस्त आँखों से पिला के उसने हमें मदहोश कर दिया ……………………. अब तड़पते हुए ढूंढ रहा हूँ उन आँखों को फिर से मदहोश होने के लिए ……………………. …

सादगी – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

सादगी महफ़िल में हुआ करते हैं चर्चे तेरे हुस्न के ………………….. वल्ला तेरी सादगी पे कौन ना मर जाये …………………….. शायर : सर्वजीत सिंह [email protected]

दर्द – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

दर्द हुस्न वालों का दर्द हम समझ तो सकते हैं पर बयाँ कर नहीं सकते ……………………………………. के कितनी तकलीफ होती है उन्हें अगर उनके हुस्न की कोई तारीफ ना …