Tag: मजबूर

हाइकू मज़दूर- मज़बूर – डी के निवातिया

हाइकू मज़दूर- मज़बूर *** सुदूर गाँवशहर ये बेगानामिले न ठाँव !! प्रवासी चलेनापे ज़मीं आसमांकदमो तलें !! रोज़ी की खोज,पत्थर बने फूल,रुई का बोझ !! गाँव के लोगशहरो पर …