Tag: नफ़रत

कविता_ “कि कोशिश बड़ी चीज है”

कब तक किस्मत को कोसोगे,मीन-मेख दूसरों में खोजोगें,क़दम बढ़ा जो, मिलना फिर लाज़िम है;कि कोशिश बड़ी चीज है।दूरी और नफ़रत छू मंतर हो जायेगी,ग़ैर-पराये की रस्में भस्म हो जायेगी,मान …

नफ़रत – डी के निवातिया

विषय : नफ़रतविद्या : हाइकु*** *** *** शासक मौन,नफ़रत की आगबुझाए कौन।। रोपे हैवान,नफ़रत के बीज,रोये इंसान।। प्रीत की रीतनफ़रत न करदिल को जीत ।। फूलों में पले,फैली जो …