Tag: देश-प्रेम

“जागो भाग्य विधाताओं”

मनहरण घनाक्षरी आधारित जागो भाग्य विधाताओं (प्रति चरण 8+8+8+7 वर्णों की रचना) देखा अजब तमाशा, छायी दिल में निराशा, चार गीदड़ ले गये, मूँछ तेरी नोच के। सोये हुए …

मुझे भारत कह कर पुकारो ना …..( कविता)

मुझे भारत कह कर पुकारो ना …..( कविता) मत पुकारो मुझे तुम India, मुझे मेरे नाम से पुकारो न , निहित है जिसमें प्यार व् अपनापन , मुझे भारत …