Tag: त्रिवेणी

त्रिवेणी….

विधा: त्रिवेणी….१.बारूद और माचिस की जरूरत नहीं….बन्दूक गोली का भी क्या करना….बस ज़ुबाँ के दो बोल काफी हैं !२.कम बोलना बहुत अच्छा है….बोलने से पहले तोलो…..नेता सब आजाद हैं …

त्रिवेणी – आजाद – प्रबुद्ध भारत – सी.एम्. शर्मा (बब्बू)..

(१)ध्वजारोहण…आन, बान, शान हर भारतीय का…राष्ट्रीय एकता.(२)वन्देमातरम…भारत की रूह की आवाज़..ज़िन्दगी को सलाम.(३)शहीदों के बलिदान से…आजाद हुआ भारत..मानसिकता से फिर क्यूँ गुलाम ?(४)स्वदेशी बने हर भारतीय दिल से…साकार हो …

त्रिवेणी – इतिहास..सी.एम्.शर्मा (बब्बू)..

(१)तन धुला मन कलुषित रहा…गंगा अपवित्र होने लगी..पंगु होती नैतिकता..(२)त्रिवेणी कहूँ या संगम मन का…रिश्ता था विश्वास,प्यार और त्याग का…आओ ढूंढें लुप्त हुई सरस्वती को !(३)पाखण्ड का बाजार गर्म …

त्रिवेणी….सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

(१)रुको, देखो, चलो…जीवन तुम्हारा है..अपनों को बेसहारा न करो.(२)धर्म, जात, ताज…कोई कीमत नहीं तुम बिन..इंसान हो तुम !(३)बजुर्गों की लाठी…धरोहर हमारी..आस्तित्व हमारा.\/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)(‘त्रिवेणी’ का उदय आदरणीय गुलज़ार साहब …