Tag: जीवनमाला को उलझा सा दिया है। लक्ष्य की ओर बढ़ते-बढ़ते बार-बार पग थम जाते हैं शायद मेरा लक्ष्य नहीं यह