Tag: छंद – गीतिका

मैं जग मचाया शोर…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

II छंद – गीतिका  IIअपनी अपनी सब कहते, अपनी ना पहचाने….अपने को जब खो बैठे, आयी अक्ल ठिकाने…चोरों का सरदार बना, लिए धर्म का ठेका…कोवा हंस बना जब हो, …