Tag: कवि पीयूष राज दुमका झारखण्ड

ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए

ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गएमैंने तुम से प्यार किया था…..ये तुम क्यों भूल गएतुमको सब कुछ मान लिया था ये तुम क्यों भूल गएसुबह थी तुम शाम थी तुम …