Tag: इंसानी फितरत

इंसानी फितरत — डी के निवातिया

इंसानी फितरत @ अपने पराये के फेर में दुनिया रहती हैइंसानी फितरत है ये मेरी माँ कहती हैहर दुःख दर्द का इलाज़ है आत्ममंथनकहने को भावो में तो दुनिया …