Tag: आबरू

आबरू – डी के निवातिया

आबरू***मुझे मंदिर में पूजा, किसी ने मयखाने मेंफिर भी बस न पाई दिल के आशियाने में,आबरू लुटती रही, मै दर दर भटकती रही,किसी को तरस न आया बेदर्द जमाने …