Tag: अहीर छंद

अहीर छंद “प्रदूषण”

अहीर छंद “प्रदूषण” बढ़ा प्रदूषण जोर। इसका कहीं न छोर।। संकट ये अति घोर। मचा चतुर्दिक शोर।। यह भीषण वन-आग। हम सब पर यह दाग।। जाओ मानव जाग। छोड़ो …