Author: Shishir "Madhukar"

सयाने – शिशिर मधुकर

देखो तनहा जिंदगी का मेला तो वीरान होगा कर लो मुहब्बत किसी से जीना भी आसान होगा मुहब्बत के बिन तो गरीबी हर पल रहेगी जहन में मिलेगा जिसे …

यूं होली मनाते – शिशिर मधुकर

तुम पास होते तो तुम को रिझाते गालों पे हर एक रंग को लगाते मुहब्बत को अपनी आगे बढ़ाते तेरे साथ कुछ हम यूं होली मनाते बदलती ऋतु है …

सबसे ख़ास – शिशिर मधुकर

चलते रहे हैं देख लो मंजिल ना पास है कोई नहीं है जिससे कहें तू सबसे खास है रिश्तों की भीड़ में कोई रिश्ता नहीं मिला कैसे कहूं कि …

रिसते हुए नासूर – शिशिर मधुकर

हरदम रहे है साथ मगर दिल तो मिले नहीं बगिया में महके फूल तभी देखो खिले नहीं जाने क्या क्या सोच कर के मैं खामोश हो गया चुप हूं …

मैंने बिसार ली – शिशिर मधुकर

तेरे बिना भी जिन्दगी ले मैंने गुजार ली गठरी हर इक उम्मीद की सर से उतार ली बीते लम्हों को भूलना आसान तो नहीं अपने वस्ल की हर घड़ी …

गीता – शिशिर मधुकर , नारी दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

वो तेरा दिवस मनाते हैं मैं तेरी खातिर ही जीता हूं ए नारी तेरी आंखों से मैं जीवन के रस को पीता हूं तेरी खातिर रघुवर रोए हनुमत ने …

संगम नहीं करते – शिशिर मधुकर

सजा मालूम होती गर मुहब्बत हम नहीं करते अपनी आंखों को देखो आंसुओं से नम नहीं करते मिला कुछ भी नहीं होता स्वप्न ज़िंदा तो रह पाते मिला जो …

कहते ये लोग हैं – शिशिर मधुकर

उलफत ना तुम तलाश करो कहते ये लोग हैं खुशियों की चाह में यहां मिलते वियोग हैं जड़ से खत्म ना हो सके कोशिश करीं कई दुनिया से पूछ …

शह प्यार की – शिशिर मधुकर

मुहब्बत है अगर असली तन से खुशबू सी आती है कोई नस नस में बहता है बिखर फिर ये जताती है मुहब्बत है मुझे उससे समझना है नहीं मुश्किल …

नशा – शिशिर मधुकर

मुझको नशा अपना दे के तुम दूर क्यों हो गए हो काटें ये तन्हाइयों के जीवन में क्यों बो गए होनींदें उजाड़ी हैं मेरी दर्द ए मुहब्बत जगा के …

पत्थर – शिशिर मधुकर

अनोखी हर अदा तेरी तुझे कैसे बताऊं मैं तेरी तस्वीर सीने से बता कैसे हटाऊं मैं भले तू बन गई पत्थर मेरे अब पास ना आए इबारत तेरी यादों …

जादूगरी – शिशिर मधुकर

देखो जहां भी नुमाया कुदरत की जादूगरी है हुस्न मेरी जाना तुम्हारा शफ्फाक और मरमरी है यूं ही नहीं रूप तेरा दुनिया को प्यारा लगे सुन अल्लाह की ये …

मत हो परेशां – शिशिर मधुकर

भूलेंगे तुझको कभी ना वादा है इस बात का सुन फिर से मैं तुझपे उगूंगा बोल शाखा को ये पात का सुन नींदें लगेंगी तभी तो ख्वाबों में कोई …

सूरज की किस्मत – शिशिर मधुकर

तूफान आते रहेंगे जीवन भी चलता रहेगा मिले ना मिले तू मुझे पर प्यार अपना पलता रहेगा ठोकर लगे ना तो जीवन में कोई दर्द को ना जाने गिरता …