Author: Rakesh Aryan

एक जमीं कोई नया आसमाँ भी हो – राकेश आर्यन

एक जमीं भी हो कोई नया आसमाँ भी हो ऐ दिल चल वहाँ जहाँ मेरे हिस्से का जहां भी हो दयारे-गैर सा गुजर जाए ऐसी रौशन-ए-आफताब न हो चल …

दिल आवारा कर लिया जाये – राकेश आर्यन

चलो आज फिर से दिल आवारा कर लिया जाये टूटे हुए हर टुकड़े को सितारा कर लिया जाये मुत्तासीफ बयार बेरुखी के आने से पहले चलो किनारा करने वालों …

हवा कहूँ या तेरा नाम लूँ – राकेश आर्यन

खोले अपनी बाँहें..यूँ चलती रही हवाएंना शोखियों का होश थाना रवानी का जोश थाउसे उड़ने का शौक थान डूबने का ख़ौफ़ थासिर्फ चलना उसकी क़ज़ा में थामंज़िलों का कुछ …

कहाँ हो तुम – राकेश आर्यन

मेरे ख्यालों का गुलिस्तां वीरान है कब से, कहाँ हो तुमधूप धूप है ये जिंदगी मेरीनही छुपा बादलों में आसमां कब से, कहाँ हो तुमलौट आओ किसी रोज़ की …

इतिहास की क्लास – राकेश आर्यन

बेज़ुबानों के मुख से अपनी बदज़ुबानी गाता है कोईकभी आज़ादी की अनसुनी कहानी सुनाता है कोईबच्चे क्यों न भाग जाए स्कूलों सेजब न्यूज़ चैनल पर ही नया इतिहास पढ़ाता …

जारी रखो – राकेश आर्यन

मिलने बिछड़ने का ये सफर जारी रखो।थोड़ा करार हो और थोड़ी बेकरारी रखो।तू मुझको अपना लगान जाने कैसी नज़र थी मेरीअगर तेरी भी नज़र-ए-करम हो ऐसीतो ये नज़र जारी …

सियासत – राकेश आर्यन

वो क़त्ल करके पूछते हैंये किसने किया?ये काम किसका था ?अज़ब रंगत में है आज सियासत अपनीये जुर्म उसकी थीये पयाम जिसका था।@aryan136207 (Twitter) Оформить и получить экспресс займ …

बदलता वक़्त – राकेश आर्यन

कभी मुद्दतों से जमा किया रेत के दानों सा बिखर गया।अब ना वो वक़्त रहा ना मौसम रहा ना रातें रही ना सहर रहा।शरगोसियों में ढूंढता था ज़माल-ए-इश्क़ वो …

दूर कहीं एक खूबसूरत शाम देखता हूँ – राकेश आर्यन

दूर कहीं एक खूबसूरत शाम देखता हूँ।दोस्तों की दुआ और न जाने कितने सलाम देखता हूँ।वक़्त का पहर कमबख्त वक़्त को रास न हुआ शायदहाथ से फिसलता हुआ मंज़र …

दिल की बात – राकेश आर्यन

किसी गैर के किस्से सुनाता रहा तुमको।इसी बहाने दिल की बात बताता रहा तुमको।मेरी दिवानगी में थी कमी या तेरी बेपरवाहियां ज्यादातुझसे दूर होकर अपने क़रीब बुलाता रहा तुमको।किसी …

कभी हिंदी कभी उर्दू – राकेश आर्यन

हम सब ने बोली है कभी हिंदी कभी उर्दू।अहम से नही हम से निकली है कभी हिंदी कभी उर्दू।सियासत -ए- दांव पर बिखरी पड़ी है हर तरफ लाशें,शाह-ए-नज़र में …