Author: Naina

” व्याकुल हृदय की वेदना “

आज सुनाती हूँ मित्रों मेरे मैं……… अपने इस व्याकुल हृदय की वेदना ….!! जन्म हुआ जब इस संसार में मेरा…. बहुत प्रफुलित था तब मन मेरा…….. कितने प्यारे रिश्ते …

” घमंड “

जहाँ कभी बड़ी इमारतें थी…. आज वहां खंडर नजर आते है !! जहाँ कभी गुलशन था लहराता हुआ…….. आज वहां वीराने नजर आते है !! जिया करते थे कभी …