Author: मनुराज वार्ष्णेय

धरम के नाम पर लड़ते है जो

किसी भूखे  को खाना दो तो इन्सां मर नही जातेबिना कुछ नेकियाँ ले हम कभी भी घर नही जातेधरम के नाम पर लड़ते है हिन्दू और मुस्लिम जोधरम को …

अपना प्यार किनारा करके

अपना प्यार किनारा करके, सब कुछ ही फिर हारा होगाकैसे  खुद  को   टाला   होगा,  कैसे  वक्त  गुजारा   होगा दिल  की  सारी  उम्मीदों  को, जीते जी  फिर मारा  होगाजो  आँखों …

इस जमाने से मुकरना चाहता हूँ

इस जमाने, से मुकरना, चाहता हूँखुद में से, मैं अब गुजरना, चाहता हूँ मैं तेरी, हर याद, ख्वाबों, जिन्दगी सेवक्त बनकर, बीत जाना, चाहता हूँ है मेरी, ख्वाइश तो …

तू वहाँ ना रही, मैं यहाँ ना रहा

प्यार  हम पे तो वो अब लुटा ना रहाबात क्या है  ये  भी  तो बता ना रहा याद    तेरी   हमेशा   रहे   साथ   मेंदूर  हो के भी  तुझसे  जुदा  ना …

काश्मीर – इतिहास

लोगों ने पत्थर मारे फिर भी वो डटकर खड़ा रहानाको चने चबाने को दुश्मन के पीछे पड़ा रहाहर सैनिक की आंखों में एक ख्वाब शांति का दिखता हैपर वो …

तन्हा दिल

मैं पथिक  के रास्ते  से, मंजिल  मिलाने में लगा हूँफिर किसी तन्हाई को, महफ़िल बनाने में लगा हूँजानता हूँ  क्या तड़प, होती है घुटते  आँसुओं  मेंइसलिये   लोगों  के  टूटे, …

न जाने क्यों

न जाने रोज कितने सपनेंमेरे तकिये से लिपटे रह जाते हैन जाने रोज कितने ही मौकेमेरे हाथ से निकल जाते हैन जाने रोज कितनी ही ठोकरेमुझे नया सबक देना …

चलो प्यार करें

तुमसे  चेहरे  का आईना लियेउल्फत  अपनी  गुलजार  करेंइक  दूजे   से  खुल  जायें  तोदिल  बातों  का   बाजार  करेंजो  दबी  हुई  दिल  के भीतरहोठों  से   अब   इजहार  करेंअब  तुम  शरमाना भी  …

बसन्त पञ्चमी

माँ तेरी वीणा के स्वर से जीवन का संगीत मिलामाँ  तेरे  शब्दों के बल से मुझको मेरा गीत मिलातुलसी  मीरा  सूर  कबीरा  तुझसे ही जाने जातेमाँ तेरी कृपा से …

दिल की बात

(1) वो  जो  ख्वाब मिला, आंखों को  मेरी, अब  नही मरता कभी जो दिल को थी,उससे शिकायत,अब नहीं करता कहो  जाकर  उसे, जो  छोड़  कर, मुझको  चला  गया बसी  …

हो दिल की दुआओं में

कभी आँखों के खालीपन, कभी दिल की दुआओं मेंयकीनन  दूर  हो  मुझसे, या हो  दिल  की  पनाहों मेंभले  रूठे  हो  तुम  हमसे, मगर  ऐहसास  बाकी   हैइन्ही  ऐहसास  से टिकते  …

सवैया छ्न्द

बात सुनो ओ कान्हा मेरी, तुम अधूरी प्रीत को पूरी कर दोरहा जाये  न  मुझसे अब, दिल अंधियारे  को नूरी  कर  दोवो जो गयी तो महक चली गयी, लाके उसे …

मुझको दिखा ओ रहगुजर, तेरे अन्दर हरा क्या है

मुझको दिखा ओ रहगुजर, तेरे अन्दर हरा क्या हैतू  मुश्किलों में  भी खड़ा, तेरे अन्दर  भरा क्या है तुमसे बिछड़ के भी अभी तक, जो हम प्यार करते हैमुझको …

बच्चों का हक (CHILD’s RIGHTS)

दुनिया की सच्चाई समेट, कैसी बातें ये हम लिखतेखुशी मिले जिनके हिस्से, उनके हिस्से में गम दिखतेजब घर के अंधियारों तले, वे उजियारे से बेखबर मिलीछोटी नन्ही जान जब …

लब्जों को थोड़ा दबा कर रखना

अपने दिल मे किसी नये को बता कर रखनाअपने लब्जों को भी थोड़ा दबा कर रखनाभले जुल्फों के नीचे किसी और को बिठा लोमगर उनसे हमारी बातें छुपा कर …

पाने से प्यार नही मिलता

खिलते है फूल जवानी मेंजब प्यार होता नादानी में ….. प्यार का रंग चढ़ता जाताप्यारों की आनाकानी में ….. सीधा मार्ग में प्यार मिलेहै नही मोड़ कहानी में ….. …

आंखें नम नही करता

क्या करूँ  दिनभर, मन  नही  लगतावो  तुम्हारा  फोन,  अब  नही  लगता…..ख्वाब अब  तो सारे, मर  से गये  हैदिल  अपनी बात, अब नही  करता…..मंदिर ओ मस्जिद  के, चक्कर  छूट गयेख्वाइशें  …

मुक्तक

आज कुछ तो छुपती बात है, बेचैन क्यों ये रात हैन  चाँद  है  न  तारे  है ,  मायूस  दिखते  सारे   हैप्यार  की  परिभाषा  में, आज  ये  बदलाव आयाफिर  प्रेमी …

फिर से इक दीप जले दिल में

जो   बसा   अंधेरा   मन   में  हैपतझड़  सा  तन  सावन  में  हैदिल   में   भरे   ऐहसास   नहीवाणी   में   भी    उल्लास   नहीबेचैन  रहो  जो  तुम  दिन   भरहँस  न  पाओ  कभी  खिलकरराहों  …

उम्मीदें कम नजर आती है

इस किनारे न अब कोई लहर आती हैआजकल उम्मीदें कम नजर आती है सुबह से बेचैन बच्चे खिलखिला उठते हैशाम को काम करके जब माँ घर आती है गाँव …