Author: kanukabir

सदियों से अमर किरदार है हम

सूनी आंखे,   सूखे आंसू,      सेहत से बीमार है हमये सब तोहफा है उसका, जिस हूरपरी के यार है हम।माना के बयाँ कर देना था वो किस्सा मेरे प्यार का …

जिदंगी अभी बाकी है

जिदंगी अभी बाकी है, किसांस को इंतजार है तेरी दुआ काआंख को इंतजार है तेरी नज़र काऔर रूह को इंतजार हमसफ़र का।छोड़ आया हुँ जो गजलअपने तकिये के नीचे …