Author: Man Mohan Barakoti

निज पर सदा भरोसा रखना- अपने मन में …………

रचनाकार : मनमोहन बाराकोटी ‘तमाचा लखनवी‘, पी० एण्ड टी० ३/२, मालवीय नगर, ऐशबाग, लखनऊ   निज पर सदा भरोसा रखना- अपने मन में ………… निज पर सदा भरोसा रखना- अपने मन में धीर धर । आगे बढ़ते रहो साथियों- तुम लहरों को …

“हमने तो जीवन में केवल ….”

हमने तो जीवन में केवल, मानवता का पाठ पढ़ा है। मानवता ही मेरी मंजिल, बस उसका ही नशा चढा है।।   मानवीय मूल्यों का अब तक, कदम कदम पर …

नया सवेरा लाना होगा

जब शान्तिपूर्ण आन्दोलन की, सुनवाई नहीं होती । सत्पथ सत्याग्रहियो की, अगुवाई नहीं होती ।। तब उग्रवाद आन्दोलन ही तो आगे बढ़ता है । दावानल हिंसक आन्दोलन, आग उगलता …