Author: DAYANANINDU

वैलेंटाइन डे

वैलेंटाइन डेना धरम, ना करम, ना कोई रस्म -रिवाज और ना जहां उम्र का बंधन।हर सांस, हर धड़कन में होता जहां वैलेंटाइन डे का वंदन।।हसरतें लिए आंखों में सजदे …

विनी

विनिविनय के वि, निवेदिता के नि से हुई विनि नाम की कृति।पापा की सादगी और मम्मा की शालिनता ही है उसकी प्रकृति।।चेहरे का उसका ऐसा कमप्लेक्शन।पूनम की रात में …

खुद से ही दूर हुए जा रहा हूं

खुद से ही दूर हुए जा रहा हूंजिनके दिलों में रहते,पास उनके ना होने की मजबूरी है।घर जिनके हैं पास,उनके दिलों से कितनी दूरी है।इन गैरों की बस्ती में …

ख्वाब – अस्तित्व में होने की

ख्वाब- अस्तित्व में होने कीरगों में मेरे बहता जुनून था।तभी माथे पर भी,कुछ कर-गुजरने का सुकून था।औकात से कुछ बड़ा करने की चाह थी।आंखों में दिखती लबासना की राह …