Author: anand kumar

प्यार है तो है- आनन्द

प्यार है तो है..तुम्हारी हँसी से भी तुम्हारे गुस्से से भीतुम्हारी शिक़ायतों के हर एक हिस्से से भीमेरे चेहरे पर बिखरी तुम्हारी उन ज़ुल्फ़ों से भीतुम्हारी मासूम आँखों के …

तुम्हारी फ़िक्र- आनन्द

तुम्हारी फ़िक्र थी बस इसलिए सब सह गयावरना मेरा विश्वास जाने कब का था ढह गयालालच फ़रेब झूठ शर्तें ये सब मेरे दायरे नहीँकड़वा हूँ मैं सच हूँ अकेला …

कई बार- आनन्द

कई बार सोंचा तुमसे मिलूं मैंकई बार सोंचा तुम्हे कुछ लिखूं मैंहिम्मत करी कुछ शब्द चुनेफिर से मन ने ख्वाब बुनेकई बार आँखों ने पत्र लिखेकई बार सोंचा तुम्हें …

मेरे अन्दर का सच- आनन्द

मेरे अन्दर का सच मुझसे है कहतातू जैसा है वैसा ही क्यों नही रहतातू मुझसे खफा है या मजबूर है तूया दुनिया के चक्कर मे मुझसे दूर है तूजानता …

अर्श – आनन्द कुमार

कई अर्श देखा है कई जन्म देखा हैसिमटी हुई बाँहों में कई मर्म देखा हैकुछ सहारा मिला कुछ खुद से उठामैंने हर ज़र्रे में तेरा स्पर्श देखा है(आनन्द) Оформить …

कोशिश -आनन्द कुमार

जो नही मिला वो कमाने निकला हूँमैं अपने पाँव जमाने निकला हूँकोशिश है कि इक दिन वो भी देखे प्यार से मुझेमैं उसको पाकर उसे गँवाने निकला हूँ(आनन्द) Оформить …

खूबसूरत- आनन्द कुमार

खूबसूरत शाम हैसब तुम्हारे नाम हैसोंचू तुम्हारे बारे मेंऔर मुझे क्या काम है(आनन्द) Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять …

रूह- आनन्द कुमार

रूह का एक हिस्सा ख़ाली हैमैंने खामखाँ बेचैनियाँ पाली हैज़िस्म तो चलता है मीलों रोज़ऐ दिल बस तेरा क़िस्सा सवाली है(आनन्द) Оформить и получить экспресс займ на карту без …