Author: Ajay Kumar

सूरत-ए हाल बयां किया नहीं जाता हैतुमसे दूर अब तो रहा नहीं जाता हैकहते हो भूल चुके हैं हम तुमको तुमसेनजरें क्या हटाए दिल धड़क नहीं पाता है ना जाने …

मेरा जुनून हो तुम !

मेरे दिल की पहली आस हो तुममेरे धड़कन की आखिरी सांस हो तुमकैसे बताऊं तुम्हें दिल का हाल, बस यू समझोमैं समंदर और मेरा बेइंतहा प्यास हो तुम मेरे ख्वाबों …

महामारी

जाने यह कैसी तैयारी हैलगता है मुसीबत में दुनिया सारी हैखुद को समझता था महफूज इंसानआज देखो सर पर इतनी बड़ी महामारी है अरे देखो देखो यह बंगला यह गाड़ीयह …

जब जाता है कोइ अपना छोड़ कर…

माना मैने एक दुनीया बनाया था लम्हो को जोड कर एक आशियाना बनाया था तीनका तीनका जोड कर कमबख्त तुफान भी निकला कमाल का दुश्मन उडा ले गया अशियाना …

कोई शक्स हमारा होगा…..

किसी की आँखों मे मोहब्बत का सितारा होगा एक दिन आएगा कि कोई शक्स हमारा होगा कोई जहाँ मेरे लिए मोती भरी सीपियाँ चुनता होगा वो किसी और दुनिया …

आइने कि तरह गुजरी है जिन्दगी मेरी…..

एक हवा आये और कर दे तेरे हवाले मुझको इससे पहले की कोइ और बहाले मुझको आइने कि तरह गुजरी है जिन्दगी मेरी टूट्ने से डरता हु बिखरने से …