Author: ajay921

टूटे सपने

खुली आँखों में कई टूटे सपने गुजर गए,हुई आँख बंद सपने बूँद-बूँद बह गए।चलते कदम डगमगाते है अब,आँखों से मेरी आँखे घबराते है अब,सपने अब भी देखता हूँ पर …

शह और मात

एक है राजा एक है रानी,राजा खत्म फिर खत्म कहानी ।आठ सिपाही,जोड़ो में है ऊँट,हाथी और घोड़े,आँख खुली ,मुँख पर ऊँगली ,दो ऊँगली से मोहरे दौड़े।सोलह श्वेत् और सोलह …

जिंदगी के पल

अपनी मुस्कानो के बारे में बतलाना चाहता हूँ,दर्द दिल में नहीं मेरी मुस्कानो में है सिर्फ यह समझाना चाहता हूँ ,खुशियों के पलो को बिखेरना मै भी चाहता हूँ,पर …