मेरे गीतों के आँचल में

मेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दोलहरों का कंपन स्पंदन भीसागर में जा मिलने दो।हो प्रभात भी सुखकर ऐसाकलरव करते खगगण जैसाऔर किरण की मादकता भीओस कणों में छा जाने दो।निर्जन वन में कूक रहे जोउनकी गुंजन मिल जाने दोमेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दोओम् शब्द की प्रतिध्वनि प्रखरकरे शब्द का उद्घोष अमरऔर गीत जब जब गूँजे तोजग जीवन मुखरित होने दो।माटी के नश्वर पुतलों कोमानवता से सज जाने दोमेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दोगर जीवन के क्षण निष्ठुर होंव्यथा वेदना के अक्षर होंतब भक्ति के पवन शब्दों कोकर्म धर्म में धुल जाने दो।नम पलकों का वैभव सुन्दरआँसू बन बस झर जाने दोमेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दोमन की गति गर मुक्त नहीं होपाप-पुण्य का ज्ञान नहीं होतब सहज हर सोच को करनेकुछ चिंतन रुचि बढ़ जाने दो।दिव्य भाव कर्मों में भरनेइन गीतो को सज जाने दोमेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दोप्राण बसे हों जिस जिस तन मेंदीप बुझे हों व्याकुल मन मेंवहीं गीत को रम जाने दोचंचल सुर कुछ आ जाने दो।गूँज उठे जो मानव मन मेंयह गीत वही बन जाने दो।मेरे गीतों के आँचल मेंनटखट सुर कुछ आ जाने दो… भूपेन्द्र कुमार दवे

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

8 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 13/07/2017
    • bhupendradave 13/07/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/07/2017
  3. chandramohan kisku chandramohan kisku 13/07/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 13/07/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 14/07/2017
    • bhupendradave 14/07/2017

Leave a Reply