क्या चाहती है माँ – अनु महेश्वरी

क्या चाहती है माँ?बस अपने बच्चो की,हर वक़्त सलामती|बस दो पल कोई साथ बैठे,अपनी बातें बताए उसे,उसकी भी सुने|अपनी उलझनों को भी बांटे उससे,वह हर मसले का हल ढूँढना चाहती,चाहे बस में हो या न हो|तुम कितने भी बड़े या समझदार होजाओ,फिर भी वह चाहेगी बचपन की तरह,अब भी उससे सलाह लो|बस दो बोल,मीठे हो या कड़वे,बस ख़ामोशी न रहे|बार बार फ़ोन कर पूछने का,मकसद भी यही होता,बस ठीक हो न?वह जासूसी नहीं कर रही होती,उसे तुम्हारी हर वक़्त फिक्र रहती,तुम कैसे हो, जानना चाहती|तुम कितना भी कहलो,हम बड़े होगए, अपने हाल पे छोड़दो,वह नहीं समझेगी, माँ है न|तुम कितने भी बड़े हो जाओ,उसके लिए तो बच्चे ही हो,और शायद हमेशा रहोंगे|माँ ऐसी ही होती है,बस हमेशा वह चाहती,बच्चे पास रहे या खबर देते रहे|तुम उसके साथ हंसो,वह भी तुम्हारे साथ हॅसना चाहती,जीना चाहती तुम्हारे साथ, हर पल को|कभी कभी थोड़ी सी सराहना भी चाहती,आखिर है तो इंसान ही,नहीं चाहिए भगवान का दर्जा उसे|बस उसके त्याग और परिश्रम के लिए,थोड़ा सा अपनापन, थोड़ी सी प्रशंसा,और अकेलेपन में, साथ तुम्हारा चाहती|तुम कही भी रहो, पास या दूर,वह तो बस तुम्हे सुखी और खुश देखना चाहती,बस इतना सा चाहती है माँ| अनु महेश्वरीचेन्नई

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 14/05/2017
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 14/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 14/05/2017
  3. अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव 14/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/05/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 15/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/05/2017
  5. C.M. Sharma babucm 15/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/05/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/05/2017

Leave a Reply