मातृ दिवस — माँ पर कविता — डी. के निवातिया

माफ़ कर देना माँ तुझे मातृ दिवस पर याद नहीं किया मैंने शायद गुम गया कही मातृ दिवस तेरे निश्छल प्रेम की ओट में हर क्षण जो छायी रहती है ह्रदय पटल पर तेरे कोटि आशीषो की छत्र-छायाकिस पल नहीं होती तुम मेरे पास अचानक चलते चलते जब ठोकर लग जाती है अनायास ही निकल जाता है ओह ! माँ हँसते हँसते किसी बात पर जब दर्द करने लगता है उदरस्वत: ही दोहरा जाता है वही एक शब्द ओह्ह माँ…ओह्ह माँ धरा पर कदम रखता हूँ तो याद आती है माँ आसमा में चाँद को निहारु तो पुनरावृति होती है मां-मांबच्चो संग पत्नी का स्नेह देखता हूँ बचपन की यादो में खो जाता हूँ आँखों में फिर वही अक्स उभर आता है  जहन में तुम्हारा ही तो बसेरा होता है कितनी अनगिनत भाव है शब्दों में कैसे ब्यान करूँ माँएक तेरे ही रही करम से दुनिया में अस्तित्व है मेरा तेरे सिवा इस दुनिया में क्या कुछ है मेराभले ही दूर बैठी हो तुम मगर  मेरे इर्द गिर्द सैदव तेरा साया रहता है  रोज़ कुछ ऐसा होता है जब अनायास ही मुख से माँ निकल जाता है मुझे माफ़ करे देना माँ मातृ दिवस मेरे लिए कोई महत्व नहीं रखता मेरे लिए तेरा होना ही सब कुछ है दिखावे की इस दुनिया मैं बोना हूँ तेरी नजर में तो आज भी सोना हूँअपना साया दूर  न होने देना माँ मुझको तुम कभी ना रोने देना माँ !!

शायद इसी में खो जाता है मेरा मातृ दिवस माँ मुझको माफ़ कर देना माँ  मुझको माफ़ कर देना माँ

!!!डी. के निवातिया     

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

20 Comments

  1. angel yadav 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  2. ANU MAHESHWARI 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  3. Shishir "Madhukar" 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  4. Meena Bhardwaj 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  5. anuj tiwari 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  6. MANOJ KUMAR 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  7. Bindeshwar Prasad sharma 13/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  8. babucm 15/05/2017
    • डी. के. निवातिया 19/05/2017
  9. Shyam 20/05/2017
  10. Shyam 21/05/2017

Leave a Reply