ऐसे रिश्ते… Raquim Ali

** ऐसे रिश्ते ** एक लड़के की, एक लड़की सेएक मर्द की, एक ग़ैर औरत सेअगर बेसाख्ता गहरी दोस्ती होती हैअगर बेसाख्ता सखा-सखी होती है;अगर उनमें हंसी-मजाक होते हैंमान-मनौव्वल व तकरार होते हैंअगर साथ-साथ खाते हैं, पीते हैंउठते-बैठते हैं, सोते हैं, जागते हैं;ऐसे रिश्ते अक्सर, छुप-छुप कर बनाये जाते हैंकच्चे धागे से जुड़े, कमजोर व लाचार होते हैंअक्सर ऐसे रिश्ते रुस्वा होते हैं, दुःख दे जाते हैं- जब, ऐसे रिश्ते बेक़ाबू होकर दाग़दार हो जाते हैं।ऐसे रिश्ते सेलेब्रेटरीज में पनपें तो, चटखारी खबरें बन जाती हैंकमाने वालों में हों तो लिव-इन-रिलेशन कहलाती हैं;जिस समाज में कभी फोटो, या मैसेज पकड़े जाते हैंउसकी निगाह में, ये कत्तई अच्छे नहीं समझे जाते हैं।ऐसे रिश्ते जब खुल जाते हैं या बिगड़ जाते हैंथाने में बड़ी मुश्किल से जा पाते हैंजज साहब कोई सजा नहीं दे पाते हैं। हांइस्लामी कानून में तो है, ऐसों पर कोड़े बरसाए जाएंबेवफाई हो जीवन-साथी से, तो संगसार किया जाए, परइसके हिमायती कट्टर व दकियानूस बतलाए जाते हैं।(संगसार: निर्णय होने के बाद, सार्वजनिक स्थान पर पत्थर फेंक-फेंक कर मार डालना।) …. र.अ. bsnl

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

9 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 11/05/2017
  2. raquimali 11/05/2017
  3. babucm 11/05/2017
  4. raquimali 11/05/2017
  5. raquimali 11/05/2017
  6. डी. के. निवातिया 11/05/2017
  7. MANOJ KUMAR 11/05/2017
  8. raquimali 12/05/2017

Leave a Reply